‘तेरे बाप के बाप के बाप को भी बात करनी पड़ेगी’: सपा MLA अबू आजमी ने महिला अफसर को धमकाया

ट्रेडिंग

मुंबई के नागपाड़ा में समाजवादी पार्टी (सपा) नेता और विधायक अबू आसिम आजमी पुलिस अधिकारी शालिनी शर्मा को अपशब्द कहते नजर आए हैं। भाजपा नेता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने इस घटना का वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है।

प्रवासी श्रमिकों को घर भेजने में हो रही कथित समस्याओं को लेकर अबू आजमी नागपाड़ा में समर्थकों के साथ हँगामा कर रहे थे। आजमी का कहना था कि कोरोना वायरस के कारण फँसे मजदूरों को श्रमिक ट्रेन के लिए पुलिस स्टेशन बुलाया जाता है और फिर वहाँ उन्हें  4 से 5 घंटे धूप में खड़ा रखकर वापस भेज दिया जाता है। 

उसी समय उन्होंने वहाँ पर मौजूद शालिनी शर्मा के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी कर दी। अबू आजमी इस वीडियो में कहते हुए सुने जा सकते हैं, “ये औरत कहती है कि आप पुलिस पे इल्जाम लगाते हो, मै बात नहीं करूँगी। तेरे बाप के बाप के बाप को बात करनी पड़ेगी।”Kirit Somaiya@KiritSomaiya

“ये औरत कहती है कि आप पुलिस पे इल्जाम लगाते हो, मै बात नहीं करुंगी। तेरे बाप के बाप के बाप को बात करनी पडेगी” विधायक अबू आजमी का भाषण

मुंबई सेंट्रल स्टेशन के पास २६ मई की रात. नागपाड़ा पुलिस स्टेशन की शालिनी शर्मा महिला पुलिस ऑफिसर के लिये। ठाकरे सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं

Embedded video

2,214Twitter Ads information and privacy1,598 people are talking about this

किरीट सोमैया ने यह ट्वीट शेयर करते हुए लिखा है कि अबू आजमी ने यह बात मुंबई सेंट्रल स्टेशन के पास 26 मई की रात नागपाड़ा पुलिस स्टेशन की शालिनी शर्मा महिला पुलिस ऑफिसर के लिए कहे। ठाकरे सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

इस पर विवाद के बाद सपा नेता अबू आजमी ने उल्टा महिला पुलिस अधिकारी पर ही आरोप लगाया है कि प्रवासी मजदूरों को उनको गाँव भेजने में हो रही दिक्कत के चलते उन्होंने नागपाड़ा की पुलिस अधिकारी शालिनी शर्मा से मुलाकात की लेकिन उनके (विधायक) साथ बदसलूकी की।

सपा नेता अबू आजमी का कहना है कि महाराष्ट्र में मजदूरों को श्रमिक ट्रेन के लिए पुलिस स्टेशन बुलाया जाता है और फिर वहाँ उन्हें 4-5 घंटे धूप में खड़ा रखकर वापस भेज दिया जाता है। सपा नेता ने आरोप लगाया कि जब उन्होंने पुलिस से प्रवासी मजदूरों की बदइंतजामी पर सवाल पूछा तो पुलिस अधिकारी ने उनसे बदसलूकी की।

इस से नाराज विधायक अबू आसिम आजमी अपने सैकड़ो कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस स्टेशन के बाहर धरने पर बैठ गए और और महिला पुलिस अधिकारी को सस्पेंड करने की माँग करने लगे।