अमेरिका चुनावः जानिए कौन चल रहा है आगे कौन पीछे, किससे है भारत को फायदा

ट्रेडिंग

वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति के नतीजे सामने आने लगे हैं. स्थानीय मीडिया के मुताबिक, प्रारंभिक काउंटिंग में डोनाल्ड ट्रंप फ्लोरिडा, मिशिगन, जॉर्जिया और वर्जीनिया में बढ़त बनाये हुए हैं. जबकि न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी, उत्तर कैरोलिना, ओहियो, न्यू हैम्पशायर, पेंसिल्वेनिया और टेक्सास पर डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन (Joe Biden) की पकड़ मजबूत है. बता दें कि बहुमत के लिए 270 इलेक्टोरल वोट चाहिए और बिडेन ने 119 इलेक्टोरल वोट जीते लिए हैं. जबकि डोनाल्ड ट्रंप को अब तक 92 इलेक्टोरल वोट मिले हैं.

दंगों की आशंका
वैसे, डोनाल्ड ट्रंप और बिडेन के बीच कड़ा मुकाबला है. कांटे के मुकाबले को देखते हुए नतीजों के बाद दंगों की आशंका भी जताई जा रही है, जिसकी वजह से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं. बता दें कि 2020 के अमेरिकी चुनाव में 67% वोटिंग हुई है और 16 करोड़ अमेरिकियों ने मतदान किया है.

जीत के दावे
वहीं, दोनों उम्मीदवार अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं. डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर भरोसा जताया कि जनता उन्हें दूसरा मौका जरूर देगी. ट्रंप ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘देशभर में हम अच्छी स्थिति में दिख रहे हैं. शुक्रिया!’ ट्रंप भारी मतदान से बेहद खुश हैं और उनका मानना है कि उनकी जीत सुनिश्चित है.

भारत के लिए अमेरिका से रिश्‍ते न केवल आर्थिक, बल्कि सामरिक और सामाजिक नजरिए से भी बेहद अहम हैं। अमेरिकी राष्‍ट्रपति दोनों देशों के बीच रिश्‍तों पर बड़ा असर डाल सकते हैं। अमेरिका में आम राय यही है कि भारत से रिश्‍ते मजबूत होने चाहिए। अमेरिका में भी भारतीयों की अच्‍छी-खासी तादाद हैं और वे चाहते हैं कि उनकी ‘मातृभूमि’ और ‘कर्मभूमि’ में अच्‍छे रिश्‍ते हों। भारत के लिए अमेरिका से नजदीकी पाकिस्‍तान और चीन जैसे विरोधियों का सामना करने के लिए भी जरूरी है।

रिपब्लिकन या डेमोक्रेट, भारत के साथ मजबूती से कौन खड़ा होगा?

परंपरागत रूप से विश्‍लेषक मानते हैं कि रिपब्लिकन राष्‍ट्रपतियों का झुकाव भारत की ओर रहता है। हालांकि इस बात में पूरा सच नहीं है। दूसरे विश्‍व युद्ध के बाद देखें तो भारत की सबसे ज्‍यादा तरफदारी करने वाले दो राष्‍ट्रपति हुए। पहले 1960 के दशक में जॉन एफ केनेडी और फिर 2000 के दशक में जॉर्ज डब्‍ल्‍यू बुश। केनेडी जहां नियो-कंजरवेटिव रिपब्लिकन थे, वहीं बुश डेमोक्रेट। दोनों ने नई दिल्‍ली के साथ रिश्‍तों को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया। केनेडी को अपने कार्यकाल में चीन के खिलाफ भारत को काफी सपोर्ट किया। बुश और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बीच काफी अच्‍छे संबंध भी रहे। ऐसे ही दोनों विचारधाराओं के राष्‍ट्रपतियों ने भारत को कई मौकों पर झटका भी दिया। चाहे वह भारत-पाकिस्‍तान युद्ध के समय राष्‍ट्रपति रहे रिपब्लिकन रिचर्ड निक्‍सन हों या 1990 के दशक में भारत को परमाणु कार्यक्रम के लिए दबाने वाले डेमोक्रेट बिल क्लिंटन।

चीन को लेकर अलग हैं ट्रंप और बाइडेन के विचार

हाल के दिनों में कोरोना महामारी ने चीन के प्रति दुनिया का नजरिया बदला है। भारत के साथ लगी सीमा पर तनाव पैदा करके उसने एक और संकट पैदा किया। ट्रंप ने कोरोना और भारत से सटी सीमा पर तनाव, दोनों के लिए चीन को खुलेआम जिम्‍मेदार ठहराया है। ट्रंप सीधे-सीधे चीन से लोहा लेना चाहते हैं जबकि बाइडेन डिप्‍लोमेसी की वकालत करते हैं। ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मित्रता’ भी चर्चा का विषय रही है। मोदी और बाइडेन 2014 में मिल चुके हैं, तब बाइडेन अमेरिका के उप-राष्ट्रपति हुआ करते थे।

पाकिस्‍तान को लेकर ज्‍यादा सख्‍त रहे हैं ट्रंप

अमेरिका कई बार भारत और पाकिस्‍तान के बीच मध्‍यस्‍थ की भूमिका में रहा है लेकिन दोनों देश साफ तौर पर उसकी भूमिका नहीं मानते। अमेरिका पाकिस्‍तान को वैसे तो दोस्‍त की तरह देखता है लेकिन चीन से उसकी नजदीकियों और आतंकवादियों को शरण के चलते यह रिश्‍ता दिन-ब-दिन कमजोर हो रहा है। ट्रंप ने कश्‍मीर मुद्दे पर मध्‍यस्‍थता का प्रस्‍ताव देकर बर्र के छत्‍ते में हाथ डाल दिया था लेकिन जैसे ही भारत ने कड़ा रुख अपनाया, वे पीछे हट गए। ट्रंप पाकिस्‍तान का नाम लेकर इस्‍लामिक आतंकवाद की कई बार भर्त्‍सना कर चुके हैं। जबकि बाइडेन अगर चुने जाते हैं तो वे अमेरिका की पुरानी ‘देखो और जरूरत के हिसाब से ऐक्‍शन लो’ वाली पॉलिसी पर चल सकते हैं।

व्‍यापार के लिहाज से कौन सा नेता मुफीद?

अमेरिका और भारत के बीच व्‍यापारिक रिश्‍तों में उथल-पुथल रही है। अमेरिकी माल पर टैरिफ लगाने से ट्रंप खासे भड़के थे और भारतीय उत्‍पादों पर टैरिफ बढ़ा दिया था। हालांकि दोनों देशों के बीच का यह झंझट नया नहीं है, लेकिन दुनिया के सामने इसे कैसे दिखाया जाता है, यह राष्‍ट्रपति पर निर्भर करता है। ट्रंप जहां सबके सामने ढिंढोरा पीटकर ऐसी घोषणाएं करते हैं, बाइडेन प्रशासन में रणनीतिक पहलुओं को ध्‍यान में रखते हुए इसे अंडरप्‍ले किया जा सकता है। ट्रंप जब इस साल भारत आए तो थे उन्‍होंने मोदी को ‘टफ नेगोशिएटर’ कहा था। इधर भारत ने ‘आत्‍मनिर्भर’ होने का अभियान चलाया है, उसका रिश्‍तों पर कैसा असर होगा, यह देखने वाली बात होगी।