कुरान को हाथ में उठाया और संसद में कहा – “ये है आतंकवाद की असल जड”, मुस्लिम शरणार्थियों को भगाने की करी मांग

ट्रेडिंग

यूरोपे के तमाम देश जिन्होंने  मुस्लिम शरणार्थियों को देश के अन्दर शरण दी वो अब एक के बाद एक मुसलमानों के खिलाफ बोलने लगे है और इसका कारण ये है की जैसे जैसे मुस्लिम आबादी बढ़ी है इन देशों में तरह तरह की समस्या दिखाई देने लगी हैफ़्रांस में हाल ही में 47 साल के एक शिक्षक का सर मुसलमान छात्र ने काट दिया, इसके बाद आज फ़्रांस के NICE शहर के एक चर्च में मुसलमान शख्स ने अल्लाह हु अकबर चिल्लाते हुए 2 लोगो का सर चाक़ू से काट दिया और 1 को चाक़ू गोदकर मार दिया फ़्रांस ने बड़े पैमाने पर मुसलमानों को शरण दी थी, फ़्रांस के पास ही एक दूसरा देश है बेल्जियम, इस देश ने भी मुसलमानों को बड़े पैमाने पर शरण दी जिसके बाद देश में बम ब्लास्ट जैसे आतंकवादी हमले पहली बार देखे गए 

अब बेल्जियम के संसद में कुरान को आतंकवाद का जड़ बताया गया है, आज बेल्जियम की संसद में सांसद फिलिप देविन्टर ने कुरान को हाथों में उठाया और उसे आतंकवाद का असल जड़ बतायासांसद ने संसद में कुरआन पकड़कर कहा की – ये आतंकवाद की जड़ है, इसके जरिये हिंसा फैलाने का सन्देश दिया जाता है, इसके जरिये लोगो के क़त्ल का सन्देश दिया जाता है और आज देश में तमाम तरह की समस्याओं की असल जड़ ये किताब है, देखिये 

सांसद ने ये भी कहा की – वर्तमान में हमारे देश में 295 मस्जिदें है और उन सभी में इसी किताब के जरिये आतंकवाद का सन्देश दिया जाता है और उन मस्जिदों के जरिये आतंकवाद फैलाया जाता है इसी सांसद ने सरकार से मुस्लिम शरणार्थियों को देश से भगाने की भी मांग करी