इजराइल भारत के लिए क्यों है महत्वपूर्ण, आइए जानें

ट्रेडिंग

न्यूज डेस्क: आज के वर्तमान समय में रूस के बाद इजराइल भारत का सबसे अच्छा दोस्त हैं वो हर समय भारत के साथ रहता हैं तथा पूरी दुनिया में भारत की तारीफ करता हैं। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे की इजराइल भारत के लिए इतना क्यों महत्वपूर्ण हैं। तो आइये जानते हैं विस्तार से। 

आपको बता दें की प्रधानमंत्री मोदी के दौरे से पहले भी कई मंत्री स्तरीय और उच्चस्तरीय आधिकारिक दौरे हो चुके हैं।  2000 में तत्कालीन गृहमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी, 2008 में पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम, 2014 में गृहमंत्री राजनाथ सिंह, 2015 में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और 2016 में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इजरायल का दौरा कर चुकी हैं। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के इजराइल दौरे के बाद भारत और इजराइल की दोस्ती और भी मजबूत हुयी हैं। 
इजरायल 2016-17 में भारत का 38वां सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार रहा है, जिसके तहत 5.02 अरब डॉलर (33,634 करोड़ रुपये) का व्यापार हुआ। भारत ने इजरायल को 2016-17 में 1.01 अरब डॉलर मूल्य के खनिज ईंधन और तेलों के निर्यात किए थे। 
कृषि, रक्षा और विज्ञान व प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग के कारण इजरायल के साथ भारत के संबंध महत्वपूर्ण हैं। इतना ही नहीं इजरायल मिसाइलों सहित भारत को महत्वपूर्ण हथियार प्रणाली दे रहा है। उसने भारत को ऐसे हथियार दिए हैं, जो भारत अमेरिका से वैचारिक कारणों से सीधे तौर पर नहीं खरीद सकता हैं। 
स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट के मुताबिक, इजरायल के लिए भारत शीर्ष हथियार खरीददारों में से एक है।  साल 2012 से 2016 के बीच इजरायल द्वारा किए गए कुल हथियार निर्यात में 41 फीसदी हिस्सा केवल भारत का था। इजरायल भारत के लिए तीसरा सबसे बड़ा हथियारों का श्रोत है। अमेरिका, रूस के बाद इजराइल से भारत सबसे ज्यादा हथियार खरीदता हैं।