हाथरस : गाँव के वृद्ध ने बताया – “लड़की को उसकी माँ और भाई ने ही मारा”, हॉनर किलिंग का मामला, एक आरोपी पर भी बड़ा खुलासा

ट्रेडिंग

मीडिया ने कठुवा मामले पर जिस तरह प्रोपगंडा फैलाया था, हाथरस का मामला भी हुबहू वैसा ही है, बस इस मामले में कांग्रेस पार्टी और मीडिया खुलकर साथ है इस मामले में अब एक के बाद एक बड़े खुलासे हो रहे है और इसी कारण आज पीड़ित दलित लड़की के परिवार ने सीबीआई और नार्को टेस्ट दोनों से इंकार कर दिया पहले कुछ बिन्दुओं पर नजर डालिए – जिस दिन लड़की खेत में मिली थी वो जिन्दा थी, दैनिक जागरण, अमर उजाला जैसे अखबारों ने ये खबर छापी थी की लड़की के साथ मारपीट हुई है और वो घायल मिली है लड़की की न जीभ काटी गयी, न ही उसकी आँखें निकाली गयी, मेडिकल रिपोर्ट में रेप नहीं हुआ इसकी भी पुष्टि हो गयी लड़की की माँ का सबसे पहला विडियो भी वायरल हुआ है जिसमे वो खुद कह रही थी की – “बस मारपीट की घटना हुई है, दुसरे पक्ष के लड़के ने मारा है, बाकि कोई बात नहीं”, खुद देखिये 

इसके अलावा लड़की का भी पहला विडियो सबने देखा जिसमे उसकी गर्दन पर रस्सी का सिर्फ एक निशाँ दिखाई दिया इसके अलावा उस लड़की ने भी रेप की कोई बात नहीं कहीअब इस मामले में इसी गाँव के एक वृद्ध ने सामने आकर अपनी बात कही है, ये चौंकाने वाला है, देखिये 

इसी गाँव के वृद्ध ने सामने आकर कहा की – खेत में लड़की के भाई और माँ ने ही उसे मारा और उसे मारकर खेत में छोड़कर चले गए 



अब इसके अलावा एक और बड़ी जानकारी ये भी सामने आई है की पुलिस ने इस मामले में कुछ को गिरफ्तार किया है, मीडिया के शोर शराबे के बीच शुरुवाती तौर पर इनको गिरफ्तार किया गया है, इन लोगो में रामू नाम का भी एक शख्स है इस रामू पर खुलासा ये हुआ है की जिस दिन लड़की के साथ मारपीट हुई थी उस पुरे दिन तो रामु डेरी में काम कर रहा था, उसे 25 लोगो ने डेरी में काम करते देखा है, टोटल 25 गवाह है जो इस बात की गवाही दे सकते है, इसकी जानकारी खुद डेरी के मालिक ने दी है, देखिये 

ये जानकारी स्वयं इंडिया टुडे ने दी है, क्यूंकि अब इंडिया टुडे की इस मामले में पोल खुल गयी है इसलिए वो पूरा U टर्न ले रहा है जिस दिन लड़की खेत में मिली उसकी माँ ने सामने आकर कहा की – कुछ नहीं हुआ सिर्फ मारपीट हुई है, लड़की ने भी पहले बयान में रेप या गैंगरेप का जिक्र नहीं किया, मेडिकल रिपोर्ट में भी रेप नहीं हुआ इसकी पुष्टि हुई आँख, जीभ, गला की बातें तो पूरी तरह फर्जी फैलाई गयी और अब ग्रामीणों ने बता दिया की लड़की को उसकी माँ और भाई ने ही खेत में मारा पीटा था और उसे छोड़कर चले गए थे, डेरी के मालिक ने एक आरोपी पर खुलासा किया की वो दिन भर डेरी में काम कर रहा था, इस बात के 25 गवाह है, इसके अलावा लड़की के परिवार ने आज सीबीआई जांच सभी इंकार कर दिया और नार्को टेस्ट से भी योगी सरकार ने कल नार्को टेस्ट की बात कहकर ये भी कहा था की हॉनर किलिंग की दृष्टि से भी जांच होगी, और अब जल्द ही सबकुछ सामने आ जायेगा