वीडियो में देखे कैसे इस लेडी कॉन्स्टेबल ने मंत्री के बेटे को सिखाया सबक, लेकिन देना पड़ा इस्तीफा…

ट्रेडिंग

गुजरात की एक महिला कॉन्सटेबल सुनीता यादवको अपनी ड्यूटी निभाना उस वक्त महंगा पड़ गया, जब उसने मंत्री के बेटे से सवाल कर लिया. इस पूछताछ के बदले सुनीता यादवको अपने पद से इस्तीफा देना पड़ गया. सुनीता यादव पर मंत्री के बेटे से बदतमीजी करने का आरोप है. जिसके चलते गुजरात पुलिस ने मामले पर जांच बैठा दी. महिला कॉन्स्टेबल पर गुजरात के स्वास्थ्य राज्यमंत्री कुमार कानानी ने बेटे से बदतमीजी का आरोप लगाते हुए महिला कॉन्स्टेबल से अपने बेटे से माफी मांगने की मांग की है. इस पर महिला कॉन्स्टेबल ने मंत्री के बेटे से माफी मांगने के बजाय इस्तीफा देना उचित समझा.

क्या है मामला…
दरअसल, शुक्रवार को रात करीब 10 बजे महिला कॉन्स्टेबल सुनीता यादवकर्फ्यू के दौरान ड्यूटी पर थीं. इसी दौरान राज्यमंत्री कुमार कनानी के कुछ समर्थक बिना मास्क के सूरत के वारक्षा में घूम रहे थे. ऐसे में महिला कॉन्स्टेबल ने मंत्री के समर्थकों को रोक लिया और उनसे पूछताछ करने लगी. इस पर कुमार कनानी के बेटे प्रकाश कनानी भी घटनास्थल पर पहुंच गए और महिला सिपाही से अपने समर्थकों को छोड़ने की बात कही. इस पर महिला कॉन्स्टेबल ने उनकी एक ना सुनी जिस पर प्रकाश कनानी ने महिला कॉन्स्टेबल ने अपने पिता से बात करने के लिए कहा.

ऐसे में महिला सिपाही ने मंत्री से ही सवाल कर लिया और मंत्री के बेटे के कोरोना के चलते लगे कर्फ्यू में बिना मास्क के घूमने पर कहा- जब शहर में कर्फ्यू लगा है तो आपका बेटा बिना मास्क के बाहर क्यों घूम रहा है. क्या नियम कानन सबके लिए अलग-अलग हैं? जब आप गाड़ी में मौजूद नहीं हैं तो गाड़ी में आपके नाम की नेम प्लेट कैसे लगी है. अब इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें साफ तौर पर देखा जा सकता है कि कैसे महिला कॉन्स्टेबल बिना किसी खौफ के अपनी ड्यूटी निभा रही है.

लेकिन, मंत्री जी को महिला कॉन्स्टेबल का यह व्यवहार अच्छा नहीं लगा और उन्होंने उल्टा सुनीता यादवपर ही अलग-अलग आरोप लगा दिए. वहीं वायरल वीडियो को भी पुलिस ने संज्ञान में ले लिया है और जांच शुरू कर दी है. लेकिन, दूसरी तरफ सुनीता यादवने सिस्टम से परेशान होकर अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया है.