अभी अभीः राजस्थान में सरकार गिरना तय? राहुल ने बुलाया तो पायलट ने…

ट्रेडिंग

नई दिल्ली: राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर संकट आया हुआ है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट में मतभेद बढ़ता जा रहा है. इस बीच खबर मिल राहुल गांधी से मिलने सचिन पायलट नहीं आए. राहुल गांधी ने सचिन पायलट को मिलने के लिए बुलाया था लेकिन वो नहीं पहुंचे. अब दोनों की फोन पर बातचीत हो रही है. राहुल गांधी के दफ्तर का कहना है कि दोनों नेताओं की फोन पर ही बातचीत हो रही है.

राहुल के दफ्तर का ये भी दावा है कि बातचीत के जरिए मामले को सुलझा लिया जाएगा. आपको याद दिला दें कि मार्च में मध्य प्रदेश में भी कुछ ऐसा ही सियासी ड्रामा देखने को मिला था जिसके बाद राज्य में कांग्रेस की सरकार गिर गई. दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी सोनिया गांधी ने मिलने के लिए बुलाया था, लेकिन वो मिलने नहीं आए थे.

उधर, कांग्रेस का हाथ छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले कद्दावर नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर कहा कि- अपने पूर्व सहयोगी सचिन पायलट को राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत द्वारा दरकिनार किए जाने पर मुझे दुख है. उन्होंने कहा कि इससे ये पता चलता है कि कांग्रेस में प्रतिभा और क्षमता के लिए कोई जगह नहीं है.

राजस्थान कांग्रेस में जारी खींचतान के बीच कांग्रेस नेताओं रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन को पार्टी नेतृत्व ने जयपुर पहुंचने के लिए कहा है. राजस्थान पार्टी प्रभारी अविनाश पांडे के साथ दोनों नेता आज सीएम अशोक गहलोत के आवास पर होने वाली बैठक में शामिल होंगे

गौरतलब है कि राजस्थान के 13 निर्दलीय विधायकों को राजस्थान पुलिस के SOG का नोटिस दिया गया है. सचिन पायलट समेत मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भी नोटिस दिया गया है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट में मतभेद बढ़ता जा रहा है. मानेसर में कांग्रेस के 10 से ज्यादा विधायक हैं. पायलट कैंप के कई विधायकों के फोन बंद हैं

इसी बीच, सूत्रों से खबर आ रही है कि राजस्थान एसओजी ने डिप्टी सीएम सचिन पायलट को नोटिस भेजा है. नोटिस मिलने से सरकार से सचिन पायलट नाराज हैं. सचिन पायलट अपने कई समर्थक विधायकों के साथ दिल्ली में हैं. एसओजी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरि प्रसाद ने नोटिस भेजा है. नोटिस में सचिन पायलट को अपने बयान दर्ज करवाने के लिए उचित समय, तारीख और जगह बताने के लिए कहा गया है.

सूत्रों के अनुसार, पायलट ने अब प्रेशर पॉलिटिक्स का रुख अख्तियार किया है. PCC चीफ का पद नहीं छोड़ने के लिए प्रेशर बनाया जा रहा है. आलाकमान की तरफ से पायलट को इशारा मिल चुका है. सूत्रों के मुताबिक, राजस्थान के सभी 13 निर्दलीय विधायकों को SOG का नोटिस जारी हुआ है. फिलहाल, सभी कांग्रेस के समर्थन में थे, पायलट समर्थक मंत्री रमेश मीणा को भी SOG का नोटिस जारी हुआ है. राजस्थान सरकार को लेकर सोनिया गांधी को रिपोर्ट सौंपी गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार पर कोई खतरा नहीं है. सभी विधायक पार्टी के संपर्क में हैं. सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट में कुछ विधायकों के नाराज होने की बात भी मानी गई है.

राजस्थान कांग्रेस में संकट पर कपिल सिब्बल ने बड़ा बयान दिया है. सिब्बल ने अपने एक ट्वीट में कहा, राजस्थान में पार्टी के लिए चिंतिति हूं. सब कुछ हाथ से निकल जाएगा तब जागेंगे.